.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Tuesday, March 8, 2016

फल्गु



फल्गु
------------
हाँ
जाने क्यों
हटाने लगा था रेत
और एक दिन
फूट ही पड़ी
वो रूखी  खडूस औरत
बहने लगी फिर से
फल्गु नदी
जिन्दा हो कर । 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...