.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Wednesday, September 26, 2012

शबनम का कतरा


Dedicated to my daughter ---@ Aishwarya Agawal  jise maine bina ek boond anshu bahaye  hostel jane ka farman suna diya or wo hasti ankho or rote huye dil se chali gayi  ..jisne mere mann ko ahat kar diya . ..  :-(

आँसू  का वो कतरा
छलक जाने दिया होता
गम जो थे दिल में 
बह जाने दिया होता

लब थे सिले हुए
खुलने तो दिया होता
सिसकी तो थम गयी थी 
आहें तो भरने देते 

दिल में मचलते अरमां
जगाने तो दिया होता
नजरें तो थी झुकी 
सीधी तो करने देते

ना पूरी करते चाहत
कहने तो दिया होता
शबनम का वो कतरा
छलक जाने दिया होता


Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...