.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Wednesday, September 17, 2014

त्रिवेणी -ऐ इश्क तेरी ये फितरत





त्रिवेणी विधा में लिखने का एक प्रयास ... पाठको की समीक्षा का स्वागत है -

१)
राख से धुँआ उठा देती है
बनके दरिया प्यास बढ़ा  देती है

ऐ इश्क तेरी फितरत डराती है मुझे  !!!

=============================
२)
जा बैठा मंदिर में बन गया है ईश्वर
छूना मना है मुझको वो पावन प्रस्तर

इन हाथो ने बड़े प्रेम से तराशा था जिसे !!!
==============================


Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...