.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, July 1, 2016

प्रीत को प्रीत ही रहने दो यारो ,





प्रीत  को प्रीत  ही रहने दो यारो ,
वफ़ा जफा का खेल ना  कहो यारो ,
टूटना संवरना  है रीत जीवन की ,
आँचल प्रीत का मैला न करो  यारो । 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...