.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, January 6, 2017

आओ शर्म करें

चित्र गूगल से साभार


आओ फिर शर्म करे
सभ्य होने अदा रस्म करें
किसी ने कहा "कपड़ो का ख्याल रखो"
किसी ने "शाम होने के बाद घर से न निकलो"
किसी ने कहा "पुरुष मित्र न बनाओ "
किसी ने शराब न पीने की सलाह दी
कारण??
सबने एक सुर में कहा पुरुष जानवर होते है
मौका देख फायदा उठाते है
नोचते खसोटते है
तो आओ न फिर  शर्म करें
सभ्य होने पर शर्म करें
शर्म करें की हम पुरुषो को सभ्य  नही बना पाये ?
सुनो गुड़िया -
खिड़कियां खोल दो आने दो थोड़ी धूप
मुँह  न छिपाओ
अपनी पवित्रता को केवल यौनागों तक सीमित न करो
अपने चरित्र को इस सभ्य समाज का खिलौना न बनाओ
तुम आज भी वृंदा हो
पावन तुलसी...
ये वरदान तुम्हे स्वयं को स्वयं ही देना होगा
यहाँ तो केवल मूरत है माटी की मूरत
या कठपुतलियाँ है
जो बचे है वो ये ही जानवर है
 इनसे कैसा प्रमाण पत्र लेना
इन्हें तो अभी इन्सान होना भी नही आया
ना ही ये पूर्णतया जानवर है
आओ शर्म करें गुड़िया
मिल कर शर्म करें
इनको हम सभ्य नही बना पाए
उठो गुड़िया। 
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...