.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Thursday, February 14, 2013

saraswati vandana




बुद्धिदयिनी
श्वेत्वस्त्रावृता शारदे
हंसावाहिनी
कर दो उज्जवल
मेरा अंतर्मन भी

************
 आम्र मंजरी
दूँ पुष्पांजलि माते
भर अंजुरी

************
वीणावादिनी
छेड़ तू सरगम
ज्ञानदायिनी
***********

Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...