.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, February 22, 2013

ये मजबूरी



है कैसी ये मजबूरी
तुम दिन को अगर रात कहो
रात कहते हम भी
गर दिन को  मैं कहु दिन
तुम नाराज हो जाते हो
दिखने लगते हो दुनिया के नक़्शे में
हर वो जगह जहाँ अभी रात है
और मान लेती हु मैं तुम्हारी बात
तुम्हारी खुशियों की खातिर
दिन को रात समझ खो जाती हु
खयालो में ,.. सजाने लगती हु सपने
पलकें बंद कर लेती हूँ
उस रात की अनुभूती  में

और तभी तुम चुटकी बजा देते हो
कहते हो "..पगली ..कहाँ खो गयी ..??
देखो कितना दिन निकल आया ..
और तुम अभी तक सो रहे हो ..!!!???

डाल  देते हो असमंजस में मुझे
क्या कहूँ अब ..दिन या रात ..???

पता है मुझे - तुम कभी सहमत न होगे मुझसे
मुझे ही हर बार झुकना है
इसी तरह .. आ  जायेगी साँझ
तब भी  ...दोनों होंगे सही
दोनों गलत ,,सहमत ,,असहमत
इसी तरह उलझे हुए ...

तुम रात को देखते .... और मैं ..??!!
तुम्हारी रातों को देखते हुए
दिन के इन्तजार  में .......


2 comments:

Hasmukh Ahir said...

jo tumko ho pasand vahi bat kahenge, tum din ko agar rat kaho rat kahenge..... bahot khub.. aapne to dil ke taro janjod diya...

Sunita Agarwal said...

शुक्रिया हसमुख जी ... आपकी प्रतिक्रिया अमूल निधि है मेरे लिए .. स्वागतम एवं आभार :)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...