.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Sunday, April 26, 2015

लक्ष्मी


प्रिय सखी अद्भुत सृजनशीलता की क्षमता से परिपूर्ण कलाकारा   "चंचला इंचलकर सोनी " जी की एक पेंटिंग पर मेरे कुछ भाव
-----------------------------------------------------------------------------------
ललाई युक्त नन्हे पांव
जब उतरे प्रागण में
 भोर की ललिमा ने स्याह हुए अम्बर को
फिर से लौटा दिया उसका रंग
चिड़ियों की चहचहाट से मुकाबिला करती
आरती की सुमधुर घण्टियों सी
पूरे  घर को तरंगित करती
बचपन से ही नजरो की परिधि में पलती  बढ़ती
संस्कार के बीजो को आत्मसात  करती
जब- जब सपनो के इन्द्रधनुष पर
उन ललाई लिए कोमल पांवो से  चलने  की कोशिश करती
तब तब सूरज आकर समेट रख देता  इन्द्रधनुष
की कहीं लक्ष्मी में पैरो की ललाई काली न हो जाये
उसके सपने चोरी न हो जाये
छुपा  देता उसे दुनिया की नजरो से दूर
तिजोरी में कैद करके
की इंद्रा धनुष की पालकी बना कर
उसके सपनो की  झालरों से सजा कर
गोधूलि में भेजेगा उसे अंबर पर बने चाँद के  घर
जहाँ  चांदनी बन कर एक छत्र राज करेगी
वो धरा अंबर पर
फिर एक एक सपने को चमका चमका कर
टाँकती जाएगी अंबर पर
बड़ी खुश होती  वो ये सुन कर सोच कर
और जतन  से बचाये रखना चाहती ललाई
और उकेरने लगती सपनो को
हथेलियों में हिना से
सुना है उसने हिना का रंग जितना सुर्ख होगा
अंबर पर बने चाँद के घर में
उसके सपने उतनी जल्दी साकार होंगे
आखिर विदा होती है वो
पैरो में माहवार ,माथे पर बिंदिया
और हाथो में रचे अपने सुर्ख सपनो के साथ
इंद्रधनुषी पालकी में
हाँ ! पा लिया चाँद को !!
अम्बर भी उसकी उसकी मुट्ठी में है !!
पर उसके सपनो को समेटे
 उसकी मेहँदी का रंग
फीका होने लगा है
चाँद के सपने को चमका चमका कर
अंबर पर टाँकते टाँकते
हाँ ! आज भी वो लक्ष्मी है
उसके पैरो में लगे आलता  का रंग फीका न पड़
इसलिए छुपा के रख देता है चाँद
उसे ड्योढ़ी के भीतर
प्रथाओं की तिजोरी में ।












Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...