.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, July 24, 2015

प्रेमसाधना,यादें

प्रेमसाधना
---------------
हद से गुजर जाते है 
जब ख्यालो में तुम्हारे
गूंगे हो जाते है अलफ़ाज़
छिप जाते है गहराई में
कही गहरे सागर में
की डाले न विध्न
कोई आवाज़
इस प्रेम साधना में

-----------------------------------------
यादें
-------
यादें नही
गेसुओं में उलझी
जल की नाजुक बूँदें
की
झटक दूँ
और बिखर जाएँ


Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...