.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Sunday, July 19, 2015

काल कोठरी



कालकोठरी
------------------
जाने क्यों खोल आई थी
काल कोठरी की
जंग लगी जंजीरों को
थरथराने लगी है
सजायाफ्ता अभिलाषायें
बाहर की दम घोटू हवा
इन्हे रास नही आती
रौशनी तन जलाती  है
फांसी के इन्तजार में कटती जिंदगी को
 तड़पती मौत की सजा दे आई हूँ




Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...