.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, June 26, 2015

मोमबत्तियां



क्षणिका
--------------------
मोमबत्तियां
-------------------------

जल उठती है
मोमबत्तियां
हर हादसे के बाद
पर मिटा नहीं पाती  अँधेरा
न्याय की देवी की आँखों का
 पिघला नही पाती
इंसानियत की  धमनी में जमे
रक्त के थक्के
 हताश,बुझी  मोमबत्तियां
करने लगती है इन्तजार
फिर
 किसी कली के मसले जाने का..



Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...