.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Thursday, May 28, 2015

बादल उत्पाती

क्षणिका
-----------

ओ हवाओ

अब तो गति लो
बादल उत्पाती
चले गाँव पिया के
मोड़ दो रुख
दे दो पता
मेरे घर का
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...