.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Saturday, January 19, 2013

सुन री पवन




सुन री पवन 
यार है रूठा 
ले जा संदेशा  
मेरे प्यार का 
सहलाके उसकी 
घुंघराली  लटो  को 
चुपके से कानो में कहना 
विरहाग्नि इधर भी लगी है 

प्यार का तुम अहसास  यूँ भरना 
छूके उसकी कोमल अधरों को 

यूँ न रहो गुमशुम कहना 
चूम के अलकें 


खोलो तुम पलकें 
देखो सजन आया कहना 
          
                @}- नेह  -{@


Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...