.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Friday, January 4, 2013

ऐ चाँद





ऐ  चाँद
 यूँ ना शर्मा खोल दे लब
सुना  जा दिलबर  का हाल
वो अब तक है तेरी  ओर
टकटकी  लगाये हुए

           * * नेह  * *
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...