.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Wednesday, March 18, 2015

एक चाहत




गुलाब - दोस्ती ,प्रेम
---------------------
सफ़ेद ,गुलाबी ,पीला
लाल ,काला
जाने कितने रँग
शाम होते होते मुरझाने लगते
नही लुभाते मुझे
रजनीगंधा - सौम्य ,सुरभित
-----------------------------
संत सी कोने में खड़ी
जैसे हो कान्हा की राधा
मंद मंद मुस्काती
ढलती साँसों के साथ
हवा में घुलती जाती
मिटने के बाद भी
छाया रहता है अस्तित्व
देर तलक
बन कर खुशबू
हरसिंगार -समर्पण
_____________
निशब्द रातो में
चुपचाप खिलना
क्षणिक जीवन
सर्वस्व समर्पण
फिर भी निष्कलंक
जैसे हो मीरा जोगन
चढ़ा दी जाती है भोर होते ही
प्रभु के चरणो में
जाने क्यों
प्यार है मुझे
 हरसिंगार और रजनी गंधा से
खो जाती हूँ इनमे
शायद एक तलाश है
रिश्तो में इनकी
शायद एक चाहत है
बिखर जाने की
और शायद  एक इन्तजार है
उस धरा का  जो फैलाये दामन …



No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...