.

.
** हेलो जिन्दगी * * तुझसे हूँ रु-ब-रु * * ले चल जहां * *

Tuesday, March 3, 2015

खोल दिए है बंधन मन के


लय , छंद, सुर, ताल से परे 

खोल दिए है बंधन मन के 
अब मौन है तुम हो मैं हूँ 
नीरव में उजास-समय साक्षी पुलके

--------------------------------------------------

दिन महीने साल बीत तो जायेंगे
बिना तेरे हम चैन कहाँ पाएंगे
लम्हा लम्हा पुकारेगा दिल तुझको
आरजू में तेरी मिटते जायेंगे
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...